ECR और Non-ECR कैटेगरी के पासपोर्ट में क्या अंतर होता है ? जानिए । ~ Sikho Tech

ECR और Non-ECR कैटेगरी के पासपोर्ट में क्या अंतर होता है ? जानिए ।


what-is-the-difference-between-ecr-and-non-ecr-passport-indian-passport-ecr-and-non-ecr-or-ecnr-passport-apply-online
ECR or ECNR Passport 

ECR
या नॉन एकर पासपोर्ट क्या है

सरकार द्वारा पासपोर्ट आपकी सुरक्षा के लिए ECR  Passport जारी किया जाता है ECR का मतलब होता है कि "एमिग्रेशन चेक रिक्वायर्ड" जिसका हिंदी में मतलब हुआ "उत्प्रवास जांच आवश्यक"


किन लोगो को जारी किया जाता है

ये पासपोर्ट उन लोगो को जारी किया है जो कम पढ़े लिखे है सरकार इससे इससे आपकी सुरक्षा सुनिश्चित करती है अगर आपकी योग्यता दसवीं से कम है तो विदेश मंत्रालय आपके लिए यह पासपोर्ट जारी करता है


.
लोगो का भ्रम

भ्रम अधिकांश लोगो को पासपोर्ट में ये भ्रम है कि अगर उनके पासपोर्ट पर अगर उनके पासपोर्ट पर ECR का स्टैम्प लग गया तो बह कभी विदेश नहीं जा पाएंगे परन्तु सच में ऐसा नहीं है

भारत सरकार के अनुसार, भारतीय पासपोर्ट धारकों की उत्प्रवासन जांच आवश्यक (ईसीआर) श्रेणियों के लिए 18 देशों का अनुसरण करने जा रहे प्रवासी भारतीय मामलों के मंत्रालय के संरक्षक (पीओई) के कार्यालय से "उत्प्रवास मंजूरी" प्राप्त करना आवश्यक है।

ECR या Non ECR  में क्या अंतर है

साधारण तो दोनों पासपोर्ट में कोई खास अंतर नहीं होता है दोनों पासपोर्ट सामान ही होते है बस ECR कैटेगेरी में आपके पासपोर्ट पर  विदेश मंत्रालय द्वारा  ECR स्टैम्प लगा दी जाती हैयदि आप किसी भी देश में काम करने के लिए विदेश जाना चाहते हैं और आपके पास ECR पासपोर्ट है तो आपको Emigration Office से Office Of  Protector  Emigrants  क्लीयरेंस लेना होता है
ये भी पढ़े-


लेकिन इन दोनों पासपोर्ट में फर्क वहां साबित होता है लेकिन अगर आप केवल अपने काम से विदेश जाना चाहते है जैसे घूमने के लिए, पढाई के लिए या इलाज के लिए जाते है तो आपको कोई भी क्लीयरेंस नहीं लेना पड़ता है

परन्तु जब भी आप किसी देश में जॉब करने जाएंगे तो वहां पर एयरपोर्ट के ऊपर ही आपको इमीग्रेशन काउंटर बने होते हैं और वहां से आपको क्लीयरेंस लेना होता है यदि आप काम के लिए विदेश में जाते हैं तो केवल 18  देशों में काम के लिए जाने से पहले इमीग्रेशन काउंटर से क्लीयरेंस लेना होगा

इसमें आपको अपने जॉब की पूरी डेटल देनी पड़ती है जिससे मंत्रालय आपकी जॉब कंपनी की पूरी जाँच पड़ताल करती है जिससे आपको विदेश में किसी भी फ्रॉड से बचाया जा सकता है कई केस में देखा गया है कि कम पढ़े लिखे लोगो को बड़े सपने सीखा कर बंधक बना लिया जाता है इन्ही सब से बचने के लिए भारत सरकार ने अपने कम पढ़े लिखे नागरिको की सुरक्षा के लिए ECR को लायी हैचुनाव के लिए अपनी वोटर आईडी कैसे चेक करे। मतदाता सूचि में Voter id देखें। 



अगर आप पासपोर्ट बनवाते समय अपने पासपोर्ट के लिये डॉक्यूमेंट मे दसवीं क्लास की योग्यता या उससे ऊपर किसी भी क्लास की है और आपको पासपोर्ट जारी किया गया हैआप इन 18 देशों में से किसी देश में काम करने के लिए जाना चाहते हैं तो आपको किसी भी प्रकार के क्लीयरेंस लेने की जरूरत नहीं होती है तो इन सभी देशों में आप ECNR यानी NON ECR श्रेणी पासपोर्ट के साथ जा सकते है बिना किसी दिक्कत के दूसरे देश में काम करने के लिए जा सकते हैं और इन दोनों पासपोर्ट में बस यही सबसे बड़ा एक अंतर होता हैECR पासपोर्ट जिससे कि आपको दूसरे देशों में काम करने के लिए जाने में दिक्कत हो सकती है और दूसरे यानी नॉन ईसीआर पासपोर्ट से आपको दूसरे देश में काम करने के लिए दिक्कत नहीं होगी और ना ही आपको किसी तरह की फॉर्मेलिटी को पूरा करना पड़ेगा


कौन कौन से देश के लिए जारी होता है ईसीआर पासपोर्ट

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई), द किंगडम ऑफ सऊदी अरब (केएसए), कतर, ओमान, कुवैत, बहरीन, मलेशिया, लीबिया, जॉर्डन, यमन, सूडान, अफगानिस्तान, इंडोनेशिया, सीरिया, लेबनान, थाईलैंड, इराक (उत्प्रवास प्रतिबंधित)।

हालांकि, प्रवासी भारतीय मामलों के मंत्रालय (इमिग्रेशन पॉलिसी डिवीजन) ने ईसीआर पासपोर्ट धारकों को विदेश जाने के लिए रोजगार की तुलना में अन्य देशों में वैध पासपोर्ट, वैध वीजा और वापसी टिकट के उत्पादन के लिए भारत में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर आव्रजन काउंटरों पर अनुमति दी है

ये भी पढ़े-

Previous
Next Post »